Sustain Humanity


Saturday, January 9, 2016

भारत जैसे देश में अल्पसंख्यक कट्टरता समाज के ताने-बाने को नष्ट कर रही है। वह इस देश की सामासिक संस्कृति के लिए एक गंभीर खतरे की घंटी है। अल्पसंख्यक कट्टरता उस बहुसंख्यक कट्टरता को खाद और पानी मुहैया कराती है, जिसके परिणाम स्वरूप किसी भी देश और समाज में फासीवादी प्रवृत्तियां पनपती हैं।

भारत जैसे देश में अल्पसंख्यक कट्टरता समाज के ताने-बाने को नष्ट कर रही है। वह इस देश की सामासिक संस्कृति के लिए एक गंभीर खतरे की घंटी है। अल्पसंख्यक कट्टरता उस बहुसंख्यक कट्टरता को खाद और पानी मुहैया कराती है, जिसके परिणाम स्वरूप किसी भी देश और समाज में फासीवादी प्रवृत्तियां पनपती हैं।
http://www.hastakshep.com/…/after-the-malda-incident-secula…
‪#‎GovtPlzSupportUttam‬
Peach
‪#‎BringIt‬...
See More


हम उन तमाम लोगों की समझ पर भी शर्मिन्दा है, जो मालदा की घटना से गौरवान्वित हो रहे हैं। और उन लोगों की बुद्धि पर भी, जो इस अल्पसंख्यक कट्टरता में...
WWW.HASTAKSHEP.COM|BY AMALENDU UPADHYAYA