Sustain Humanity


Saturday, March 25, 2017

#Embroidered Quilt#, a focus on the poet Jasimuddin and his works to understand the Chemistry and Physics of Communal Politics which inflicts the Indian pshyche countrywide and specifically in Bengal where it originally roots in. Palash Biswas

#Embroidered Quilt#, a focus on the poet Jasimuddin and his works to understand the Chemistry and Physics of Communal Politics which inflicts the Indian pshyche countrywide and specifically in Bengal where it originally roots in 
Palash Biswas
#Embroidered Quilt#, a focus on the poet Jasimuddin
The video is not technically good and I have not the expertise to edit videos.There might be some mistakes while speaking just because of tongue slip.But if you have the courage to go through the video,it might help you to understand Bengal and partition scenario.partition scenario.Jasimuddin represented Indian peasantry and rural India more than others.

Relgious polarization in Bengal seems to be reintroducing the politics of divide India yet again.I want to discuss on Jasimuddin`s works to understand the social fabrics in Rural India which might be quite relevant to deal with this calamity.

Because I used the web camera of my PC to include the visual clippings,it might not be as good as as a afar as the visual and sound qualities are concerned.

Because the history of the Indian holocaust is highly biased and it excommunicated the victims,the peasantry itself, a focus on Jasimuddin wroks would be helpful to understand the chemistry and physics of communal politics which envelops Indian psyche,society and culture.

Thus,I dare to share this video.

Jasimuddin (30 October 1903 – 14 March 1976; born Jasim Uddin)[1] was aBengali poet, songwriter, prose writer, folklore collector and radio personality. He is commonly known in Bangladesh as Polli Kobi (The Rural Poet), for his faithful rendition of Bengali folklore in his works.

Jasimuddin is noted for his depiction of rural life and nature from the viewpoint of rural people. This had earned him fame as Polli Kobi (the rural poet). The structure and content of his poetry bears a strong flavor of Bengal folklore. His Nokshi Kanthar Maath (Field of the Embroidered Quilt) is considered a masterpiece and has been translated into many different languages.

Jasimuddin also composed numerous songs in the tradition of rural Bengal. His collaboration[4] with Abbas Uddin, the most popular folk singer of Bengal, produced some of the gems of Bengali folk music, especially of Bhatiali genre. Jasimuddin also wrote some modern songs for the radio. He was influenced by his neighbor, poet Golam Mostofa, to write Islamic songs too. Later, during the Liberation War of Bangladesh, he wrote some patriotic songs.

दंगा फसाद पर 
भारतीय किसानों और देहात और जनपदों के प्रतिनिधि जसीमुद्दीन की दो बेहद खास कृतियां हैं।नक्शी कांथार माठ और सोजन बादियार घाट।

ईस्ट इंडिया कंपनी की अवैध संतानों ने कैसे इस भारत तीर्थ को बंटवारे का शिकार बना दिया और कैसे आज भी बंटवारे का सिलसिला जारी है,बंगाल के गांवों की समूची खुशबू और तमाम झांकियों के साथ इस देहाती कवि,पल्ली कवि ने अपनी इन कृतियों में अपने कलेजे के खून के साथ पेश की है।

दोनों कृतियां क्लासिक हैं और दुनियाभर में मशहूर हैं और हम फिलहाल नहीं जानते कि क्या जसीमुद्दीन की आत्मा से खंडित भारत की जनता का कोई परिचयहै या नहीं क्योंकि बंगाल में स्वतंत्रता सेनानियों को जैसे भूल गये लोग,इस मुसलमान कवि को बी लोग भूल जाते अगर नांदीकार जैसे थिएटर ग्रुप और कल्याणी जैसे कस्बों के रंगकर्मी सोजन बादियार घाट और नक्शी कांथार माठ का मंचन नहीं करते।

वैसे अब्बासउद्दीन और जसीमुद्दीन का कृतज्ञ भारतीय सिनेमा और संगीत को भी होना चाहिए।इन दोनों ने मिलकर ही आल इंडिया रेडियो के लिए मैमन सिंह गीतिमाला,वहीं मैमन सिंह,जहां से तसलिमा नसरीन हैं,भाटियाली और ग्राम बांग्ला का संगीत गीत तमामो खोज निकाले।
-- 
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

Friday, March 24, 2017

Yshodhara`s comment:শ্রীজাত কন্ডোম শব্দটি ব্যবহার করে কবিতা লিখেছেন বলে আপামর বাঙালির প্রাণে ব্যথা লেগেছে। কিন্তু তার চেয়ে অন্তত একশো গুণ কুরুচিকর একটি পোস্ট and the spine lost Palash Biswas

Yshodhara`s comment:শ্রীজাত কন্ডোম শব্দটি ব্যবহার করে কবিতা লিখেছেন বলে আপামর বাঙালির প্রাণে ব্যথা লেগেছে। কিন্তু তার চেয়ে অন্তত একশো গুণ কুরুচিকর একটি পোস্ট and the spine lost
Palash Biswas
I am disappointed to see Bengali Intelligentsia quite detached from the day to day turmoil,degeneration of progressive,liberal and democrat identity of Bengali society which had been enriched By Rabidra Nath ,icons of Renaissance in Bengal and freedom fighter which made Bengal leading in every sphere of life.Despite being the victim of partition of India and the aftermath,continuous refugee influx and continuous minority persecution in Bangladesh and erstwhile East Pakistan Bengali heart and mind remain as much as tolerant as Buddhism or Tagore` s Geetanjalli might be.
Suddenly Bengal has converted into another cow belt or Gujarat.We have been familiar of the controversies related to writings in the past but never witnessed religious intolerance to overlap the heart and Mind of Bengalies in general and specifically those claiming to be flag bearers of Bengali culture.
It is stunning that Srijato seem to be excommunicated for his poem which did not mention any individual,organization or religion except the phrase condom on trisul.It might be subjected to criticism whether it was suitable or not,but branding it anti Hindu and most of the Bengali civil society siding with Ram Tsunami creating elements,is rather shocking for an outsider like me.
Prominent Bengali poet, andcreative activist and face of modern Bengali poetry,Yshodhra Roy Chowdhury has written about this scenario most correctly.Please consider her point of view as she is quite apolitical.

Yashodhara Ray Chaudhuri wrote:

প্রথমে রুচিতে বাধছিল। তারপরে ভেবে দেখলাম লিখিত ভাবে প্রতিক্রিয়া জানাবার মূল্য আছে।
শ্রীজাত র নামে লিখে পোস্ট করেছেন জনৈক সব্যসাচী ভট্টাচার্য। তার লেখা পড়ে বাঙালি চুপ।
না, কবিতাটা কত খারাপ কবিতা, কত ভুলে ভরা এসব বলে খিল্লি করে হেসে উড়িয়ে দিচ্ছি না। কারণ, আমার কাছে সব্যসাচীবাবু আর সেই সব গুরু-স্বামী-যোগী-উলেমা আলাদা নন, এক, একই ধর্ষণ সংস্কৃতির ধারক বাহক এঁরা, ধর্মীয় ভাবাবেগের নামে যাঁরা মেয়েদের ধর্ষণ করাকে একটা মাহাত্ম্য দেন। এঁদের চিনে রাখুন। এঁরা হিন্দু বা মুসলিম বা অন্য যে কোন ধর্মের হলেও, একই সংস্কৃতির ধারক। নারীবিরোধী, কুৎসিত এই সংস্কৃতি আমরা চাই না।
তাই, এক মহিলা হিসেবে, নারীবাদী হিসেবে ধিক্কার জানালাম সব্যসাচীকে এবং সেই মাতব্বরদেরও । যাঁরা কোন পুরুষকে অপমান করতে অবধারিতভাবে তার মা বোন বউ-এর সম্মান নষ্ট করেন, কোন জাতি-গোষ্ঠী-ধর্মীয়কে অপমান করেতে তার মা বোন বউকে ধর্ষণ করেন, পেটে বর্শা-ত্রিশূল খুঁচিয়ে ভ্রূণ টেনে আনেন, নিজের ধর্মের মেয়েদের অনার কিলিং এ বাধ্য করান। কারুকে গালাগালি দিতে তার মাকে তুলে আনার যুগবাহিত পুরুষতান্ত্রিক প্রবণতা এখন ফুলে ফলে বৃদ্ধি পাচ্ছে এঁদের জন্য। কন্ডোম শব্দে যার ভাবাবেগে আঘাত লেগে থাকে, তার ই নিজের রুচিটি, এইভাবে কারওর মা বোন বউকে জঘন্য ভাষায় বিবৃত করার প্রবণতায় বুঝতে পারি, এরা বিকৃত মানসিকতার, এবং এদের বিরুদ্ধে লড়াই এই সবে শুরু হল।
( ডিসক্লেমার : এই পোস্ট শ্রীজাত সংক্রান্ত নয়। কারুর ভাবাবেগে আঘাত লাগলে দুঃখিত)
সব্যসাচী ভট্টাচার্য
কন্ডোম কবি ,
কন্ডোম নিয়ে কবিতা লেখো, এ কেমন কবি,
স্ত্রী সাথে করেছো নিশ্চয় কোনোদিন নীলছবি ।
কবি তোমার টাকে কন্ডোম, গোপনাঙ্গে হাত
বনমানুষের নাম দিয়েছে আবার শ্রীজাত ।
বেজাত নামটাই শ্রেয় ছিল, জারজ বলে কথা
কবি সেজে দিয়েছো তাই ধর্মানুভূতিতে ব্যাথা ।
ত্রিশূল নিয়ে লিখছো তাই অক্ষত আছে হাত,
ইসলাম নিয়ে লিখলে বুঝতে পারতে শ্রীজাত ।
তুমি কোন চুলের কবি, ধর্মকে করো অপমান,
কন্ডোম ছাড়া কি আর কিছুর নিতে পারোনা নাম ।
জারজ বলেই এসব বলো, ব্রা প্যান্টিতে আন্দোলন,
শুনেছি নাকি পাকিস্তান গিয়েছে তোমার আপন বোন ।
তোমার বাবা নাকি ধ্বজভঙ্গ, ফলাতে পারেনি তোকে,
তোর মা নাকি ছুটে গেছিল লাহোরের কোন ঝোপে ।
তোর মাথাতে কন্ডোম পরাবো, কুকুর দিয়ে করাবো ধর্ষন,
বাকস্বাধীনতার কবিতা কাকে বলে এবার দেখুন বুদ্ধিজীবিগন

Tuesday, March 21, 2017

On Shreejat,the poet and bengali intelligentsia in general.To whomsever it might concern accross borders! Palash Biswas

On Shreejat,the poet and bengali intelligentsia in general.To whomsever it might concern accross borders!
Palash Biswas
Atul Dhusia Innocent · 0:00 इतनी प्रॉब्लम है देश में तो कही और शिफ्ट हो जाइये,,यहाँ तो इतना बोल भी रहे है आप दूसरे देशों में तो ये अधिकार भीं नहीं मिलेगा आपको।।।।।जो भड़काने का आरोप आप संघ पर लगा रहे है वो काम तो आप भी कर रहे है फिर वो गलत और आप सही कैसे हो सकते है।।।आप की विचारधारा को कितने लोग सपोर्ट करते है आपके लेख के like और comment देख कर पता चलता है की मुट्ठी भर लोग भी आपसे सहमत नहीं है।।। सर के बल खड़े होकर दुनिया देखोगे तो दुनिया उलटी ही नज़र आएगी ।।।।।
Get out of India!We always have been advised!Only those supporting the governance of racist fascist apartheid have toe freedom to write,speak and perform.It is full fledged 1984.I am not surprised.We have to face the fatwa every time we address the basic burning issues against the corporate free market agenda of ethnic cleansing and the infinite persecution of the masses.It is alarming that Bengal is captured by these BORGI elements and Bengali poets have the same treatment as poets and other writers ,artists are getting the same treatment in Bengal.I have been warning in text as well as video talk about the imminent cow dung tsunami in Bengal,eastern,North East and South India as cow belt has been extended and we remained sleepning.Even today I wrote on Kalika Prasad and latest Ram Mandir scenario.Last day I posted my analysis of Komal gandhar emphasising the urgency of IPTA like cultural movent countrywide to defend the India which is made of different streams of humanity embodied in it,as Rabindra Nath used to say.All bengali Icons speaking freedom,pluralism,diversity and love have fortunately died.Had they been alive,these Borgi brotherhood would not spare any one of them.We have lost the clan and it might prove to be an exception as Bengali intelligentsia specifically those engaged in creativity have no spine whatsoever and their soft skin would not feel the fire around which has set humanity and civilization on fire.

राममंदिर को लेकर यूपी की सत्ता के जरिये फिर भारी हंगामा खड़ा करना मकसद है। कांशीराम उद्यान में मनुस्मृति सरकार की शपथ का इंतजाम बाबासाहेब को डिजिटलकैशलैस इंडिया में भीम ऐप बना देने की तकनीकी दक्षता है,जो बहुजन राजनीति के कफन पर आखिरी कील है। पलाश विश्वास

राममंदिर को लेकर यूपी की सत्ता के जरिये फिर भारी हंगामा खड़ा करना मकसद है। 
कांशीराम उद्यान में मनुस्मृति सरकार की शपथ का इंतजाम बाबासाहेब को डिजिटल कैशलैस इंडिया में भीम ऐप बना देने की तकनीकी दक्षता है,जो बहुजन राजनीति के कफन पर आखिरी कील है
 पलाश विश्वास
वीडियो राममंदिरः
दाभोलकर,पानसारे,कलबुर्गी,रोहित वेमुला जैसे लोगों पर हमले अब लगातार होने हैं।
चौथी राम यादव जैसे निरीह व्यक्ति को जब बख्शा नहीं गया है,यूपी में तख्ता पलट होते ही जैसे देशभर में लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता के पक्ष में खड़े लोगों पर एकतरफा हमले हो रहे हैं,उससे साफ जाहिर है कि नोटबंदी के बाद जुबांबंदी के लिए अरुण जेटली की बहस शुरु करने की ख्वाहिश अधूरी रहेगी,इसे अंजाम देने के लिए बजरंग वाहिनी मैदान में उतर गयी है।
रामनवमी के चंदे को लेकर हावड़ा में संघर्ष ताजा खबर है।जिसमें तीन भाजपाई गिरफ्तार हो गये हैं।
इससे पहले हावड़ा के धुलागढ़ में ही दंगा हो गया है।बाकी हिंदुत्व एजंडे की राजनीति वसंत बहार है और बंगाल आहिस्ते आहिस्ते नहीं, बेहद तेजी से यूपी,गुजरात और असम में तब्दील होने लगा है और प्रगतिशील  वामपंथी धर्मनिरपेक्ष बंगालियों को खबर भी नहीं है कि गोमूत्र पान महोत्सव शुरु हो गया है और वे भी गोबर संस्कृति में शामिल हैं। बहरहाल बंगाल के हर जिले में सांप्रदायिक ध्रूवीकरण यूपी के नक्शेकदम पर बेहद तेज हो गया है।
शारदा और नारदा फर्जीवाड़े में लोकसभा चुनावं से पहले खामोशी और यूपी जीतनेके बाद बेहद तेजी,नारदा की जांच सीबीआई से कराने के लिए हाईकोर्ट का आदेश और इस आदेश के खिलाफ ममता बनर्जी की अपील सुप्रीम कोर्ट में खारिज होने के बाद बहुत जल्दी बंगाल में भारी उथल पुथल होने को है।यह बंगाल औरत्रिपुरा जीतने का मास्टर प्लान है।
मणिपुर और असम जैसे राज्यों में जहां मणिपुरी और असमिया राष्ट्रवाद धार्मिक पहचान से बड़ी है,बंगाल और त्रिपुरा में बंगाली राष्ट्रीयता पर भगवा पेशवाई चढ़ाई,घेराबंदी की सारी तैयारियां हो चुकी हैं।
बिखरे हुए मोकापरस्त विपक्ष को यूपी में कड़ी शिकस्त देने के बाद महंत आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री और केशव आर्य व दिनेश शर्मा को उपमुख्यमंत्री बनाने से संग परिवार की फिर राममंदिर एजंडे में वापसी हो गयी है।
योगी आदित्यनाथ सुनते हैं कि साहित्य और कविता पढ़ते हैं और उन्हें ये चीजें याद भी हैं।इससे कोई रियायत नहीं मिलने वाली है क्योंकि वे हिंदुत्व एजंडा नस्ली दबंगई के साथ लागू करने के लिए और देश भर में रामलहर पैदा करने के लिए अपने प्रवचन दक्षता की वजह से मुख्यमंत्री बनाये गये हैं।अब राम मंदिर बने या नहीं,राममंदिर बनाते हुए दीखने के उपक्रम में यूपी और बाकी देश में भारी बजरंगी तांडव का अंदेशा है।
बाबरी विध्वंस का हादसा भी भाजपाई कल्याण सिंह मंत्रिमंडल का महानराजकाज रहा है उस वक्त भी अदालत से इस मसले का हल अदालत से बाहर निकालने की बात कही जा रही थी।
कांशीराम उद्यान में मनुस्मृति सरकार की शपथ का इंतजाम बाबासाहेब को डिजिटलकैशलैस इंडिया में भीम ऐप बना देने की तकनीकी दक्षता है,जो बहुजन राजनीति के कफन पर आखिरी कील है।जनादेश आने से पहले इसकी जो तैयारियां प्रशासन अखिलेश अवसान से पहले कर रहा था,उसे बहुजनों ने बहनजी की वापसी की आहट समझ ली थी जो कि हाथी पर सवार होकर देवी मनुस्मृति की यूपी और बाकी भारत दखल की तैयारी थी।
इन दिनों आदरणीय शम्सुल इस्लाम जी की दो किताबों का अनुवाद  हिंदी और बांग्ला में कर रहा हूं और आगे और काम है।इसलिए लगातार लिखना थोड़ा मुश्किल हो गया है।
हम आनंद तेलतुंबड़े से अपनी बातचीत का हवाला देते हुए अरसे से निरंकुश सत्ता के खिलाफ सृजनशील जनपक्षधर सक्रियता और आम जनता की व्यापक देशव्यापी गोलबंदी की बातें की है।
बिजन भट्टाचार्य की जन्मशताब्दी पर हमने नये सिरे से इप्टा को सक्रिय करने पर जोर दिया था।
इसी सिलसिले में कल हमने भारत विभाजन और इप्टा के बिखराव पर केंद्रित ऋत्विक घटक की फिल्म कोमल गांधार पर अपना वीडियो विस्लेषण फेसबुक पर जारी किया,जिसे बड़ी संख्या में लोग देख भी रहे हैं।
हम नहीं जानते कि देशभर के रंगकर्मी और खासतौर पर अब भी इप्टा आंदोलन के प्रति प्रतिबद्ध लोगों ने इस वीडियो को देखा है या नहीं या हमारे वाम पंथी मित्र आत्ममंथन करके सत्ता के लिए मौकापरस्ती छोड़कर फिर मेहनतकश आम जनता के हक हकूक के लिए जमीन पर विचारधारा की लड़ाई शुरु करने के लिए तैयार हैं या नहीं।
इस वीडियो को जारी करने काम मकसद इप्टा और रंगकर्म की प्रासंगिकता पर नये सिरे से बहस करनी की अपील जारी करना है।
असम से कमसकम  एक संकेत बहुत अच्छा है कि संघ परिवार की सुनियोजित साजिश के बावजूद वहां फिलहाल धार्मिक या असमिया गैरअसमिया ध्रूवीकरण के तहत हिंसा नहीं भड़की और अासू और अगप के आंदोलन में बंगाली और मुसलमान शामिल हैं,जिससे समुदायों के बीच टकराव फिलहाल टल गया है।
सबसे अच्छी बात तो यह है कि  आसू और अगप समेत पूरा असम इसे बहुत अच्छी तरह समझ गया है कि असम और पूर्वोत्तर में धार्मिक ध्रूवीकरण की राजनीति करके संघ परिवार हिंसा और घृणा की मजहबी सियासत से उनकी संस्कृति पर हमला कर रहा है और अब धेमाजी शिलापाथर की दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के सिलसिले में वे भाजपा और संघपरिवार के खिलाफ आंदोलन शुरु करके हिमंत विश्वशर्मा के निलंबन की मांग लेकर आंदोलन कर रहे हैं।
अरुणाचल से लेकर मणिपुर तक इस मजहबी सियासत के खिलाफ आंदोलन की गूंज  हो रही है।लेकिन बंगाल और त्रिपुरा में इसके खिलाफ कोई राजनीतिक गोलबंदी नहीं है।
आज हमने हाल में सड़क दुर्घटना में मारे गये युवा गायक संगीतकार कालिका प्रसाद भट्टाचार्य का आखिरी गीत का वीडियो अपनी अंग्रेजी में लिखी टिप्पणी के साथ जारी की है।
लोकसंगीत के मामले में कालिका की शैली एकदम अलहदा थी तो रवींद्र संगीत में भी उनका लोक मुखर था।
खास बात तो यह है कि वे एक साथ बंगाल और असम की लोकपरंपराओं और विरासत के मुताबिक गा रहे थे,रच रहे थे।कालिका प्रसाद असम के शिलचर से हैं और बांगाल में उनका बैंड दोहार अत्यंत लोकप्रिय है।उनके निधन पर असम और बंगाल एक साथ शोकमग्न है।
हमें हर सूबे में अमन चैन के लिए कालिका प्रसाद जैसे कलाकारों की बेहद सख्त जरुरत है।
कला और संगीत से मनुष्यता और सभ्यता के हित सधते हैं।
प्रेम,शांति और सौहार्द का माहौल बनता है।
भारतीय सिनेमा की यही परंपरा रही है।भारतीय संगीत और कला ने देश को हर मायने में जोड़ने का काम किया है तो रंगकर्म ने भी और खास तौर पर इप्टा ने यह काम किया है।
मजहबी सियासत और अलगाववाद,नये सिरे से राममंदिर को  लेकर हिंदुत्व की सुनामी के मुकाबले देश को जोड़ने की चुनौती सबसे बड़ी है।
सुप्रीम कोर्ट ने फिर कहा है कि राममंदिर का मसला अदालत से बाहर सुलझा लिया जाये तो केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने कह दिया है कि इस मामले में केंद्र सरकार मध्यस्थता करने को तैयार है।
जाहिर है कि अब इस देश में सबसे बड़ा मुद्दा राममंदिर है और राम सुनामी में बंगाल जैसा प्रगतिशील राज्य भी संघ परिवार के शिकंजे में है।

Monday, March 20, 2017

Missing Kalika Prasad!The artist who used to link hearts and minds for love and peace with his branded folk tune! Palash Biswas


Missing Kalika Prasad!The artist who used to link hearts and minds for love and peace with his branded folk tune!
Palash Biswas

 I am missing this iconic personality from Shilchar, a close friend from Blogger and writer Sushanta Kar who is the heart throb of millions of Bengalis as well as assamese which would sustain fraternity and peace in Assam at this critical selfdestructive turmoil times of communal polarization and bigotry!
Kalika Paras is as much a KHILANJIA as I myself remain a Kumyunei and uttarakhandi.
Different communities in India resettled in different states may live in peace only maintaining intimate relationship with the mainstream omunities in those states.
We need many more Kalika Prasad who so easily may unite the people against communal designs linking hearts and minds.
I am not an expert of music.But folk is the bloodstream which follows in our veins and sustains not only life it heals humanity inflicted with degenration,self destructive identity,communalism,hatred campaign,governace of fascism.
I am happy that Bengalies in general and affliated to different organizations chose the best possible way for peace and skipped the clash which was designed by RSS.
Kalika Prasad is a hero and he succumbed to injuries as he met a road accident in the late hours while he was going tp perform in Katwa in Burdwan district on teh Durgapur Expressway.
Kalika Prasad might not be compared to some one like Shachin Dev Burman or Bhupen Hazarica on musical line.
But Assam mourned for its son no less than Bengalies.It is the passion which unites us as Rabindranath said very well that different streams of humanity with diversity and pluralism makes India that it is.
Kalaika Prasad also used to sing Rabindra sangit with his branded folk tune which is rather rooted in indigenous soul and soil acrfoss the borders.
I am sorry that I was just watching Kalika Prasad performing and blooming all the way and I could not introduce to those who are unaware of his cultural activism so much so relevant.
Kalika Prasad led musical brand DOHAR which won millions hearts in no time.
Even after untimely death,the artist dealing with millions of heart irrespective of identities, Kalika Prasad and his music unite Assamese against communal conflict and we must learn a lesson that we should find such personalities in every part of the country to unite the people against the forces of violence and hatred,racial apartheid to sustain love and peace.

Kalika Prasad Songs Download: Listen Kalika Prasad Hit MP3 New ...

Kalika Prasad Songs Download- Listen to Kalika Prasad Songs MP3 free online. Play Kalika Prasadhit new songs and download Kalika Prasad MP3 songs and ...

Kalika Prasad of Dohar Bangla Folk Band Excited on Dohar ...

▶ 0:31
May 29, 2012 - Uploaded by WBRi Washington Bangla Radio USA
Bengali folk band Dohar, founded 1999, is one of the leading Bangla folk songtroupes with all of their albums ...

Kalika Prasad Bhattacharya Bengali Singer Is No More Interesting ...

▶ 1:21
Mar 9, 2017 - Uploaded by Top Historical Events
West bengal folk singer kalika prasad bhattacharya dies in road bengali ... or even more specifically bangla ...

Kalika Prasad Bhattacharya | India Foundation for the Arts

Mr Kalika Prasad Bhattacharya's research into the folk songs of industrial workers from eastern India is substantially taken up with theoretical issues about the ...
--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

Sunday, March 19, 2017

बेहतर हो कि संघ परिवार के राजनीतिक और आर्थिक एजंडा के मुकाबले आरोप प्रत्यारोप और आलोचना से आगे कुछ सोचा जाये।मजहबी सिय़ासत की कयामत तो अब बस शुरु ही हुई है।आगे आगे देखते जाइये। क्या महंत नरेंद्र सिंह नेगी गढ़वाल और उत्तराखंड के हितों का भी ख्याल रखेंगे? पलाश विश्वास

बेहतर हो कि संघ परिवार के राजनीतिक और आर्थिक एजंडा के मुकाबले आरोप प्रत्यारोप और आलोचना से आगे कुछ सोचा जाये।मजहबी सिय़ासत की कयामत तो अब बस शुरु ही हुई है।आगे आगे देखते जाइये।
क्या महंत  अजय सिंह बिष्ट गढ़वाल और उत्तराखंड के हितों का भी ख्याल रखेंगे?
पलाश विश्वास

महंत आदित्यनाथ कहते हैं कि  जन्मजात गढ़वाली है और सन्यासी बनने से पहले उनका नाम  अजय सिंह बिष्ट रहा है।उन्होंने हेमवतीनंदन बहुगुणा विश्विद्यालय गढ़वाल से बीए पास किया।
गढ़वाल के पहाड़ों से उतरकर पिछड़े पूर्वांचल में गोरखपीठ की ऐतिहासिक विरासत को संभालते हुए चाहे उनकी विचारधारा कुछ हो,वे उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री बने।गढ़वाले के हमवती नंदन बहुगुणा की तरह।
बहुगुणा परिवार के सारे लोग अब संग परिवार के सिपाहसालार हैं।तो महंत अजयसिंह बिष्ट  बिना किसी राजनीतिक विरासत के बहुगुणा और तिवारी के बाद पहाड़ से उतरकर मैदान में अपने धुरंधर प्रतियोगियों को पछाड़कर यूपी जैसे राज्य के मुख्यमंत्री बन गये,यह उनकी निजी उपलब्धि हैं।जिसे खारिज नहीं किया जा सकता।
विचारधारा के स्तर पर उनके एजंडे के हम खिलाफ हैं लेकिन हम उनके राजनीतिक मुकाबले की हालत में नहीं हैं।
सपा और बसपा का बंटाधार हो चुका है।
संघ परिवार,मोदी,भाजपा और महंत अजयसिंह बिष्ट के एजंडे में कोई अंतर्विरोध नहीं है।
यह संघ परिवार की सोची समझी दीर्घकालीन रणनीति है कि वीर बहादुर सिंह के बाद गोरखपुर अंचल के किसी कट्टर हिंदुत्ववादी महंत को उन्होंने यूपी की बागडोर सौंपी है।
2019 के चुनाव से पहले हम जय श्रीराम का नारा अब भारत के हर हिस्से में सुनने को अभ्यस्त हो जायेंगे और हिंदुत्व सुनामी के साथ आर्थिक कारपोरेटीकरण से उपभोक्ता संस्कृति का बाग बहार विचारधारा के स्तर पर बेईमान और मौकापरस्त राजनीतिक दलों को भारतीय राजनीति में सिरे से मैदान बाहर कर देगा।
जाहिर है कि संघ परिवार आगे कमसकम पचास साल तक हिंदू राष्ट्र के नजरिये से यह निर्णय किया है।जिसे अंजाम देने के लिए अपने संस्थागत विशाल संगठन के अलावा मुक्ताबाजार की तमाम ताकतेंं,मीडिया और बुद्धिजीवि तबका एक मजबूत गठबंधन बतौर काम कर रहा है।
केशव मौर्य को मुख्यमंत्री इसलिए नहीं बनाया क्योंकि संग परिवार के पास दलित सिपाहसालार इतने ज्यादा हो गये है कि उन्हें अब मायावती से कोई खतरा नजर नहीं आ रहा है।
दलित मुख्यमंत्री चुनने के बजाय कट्रहिंदुत्ववादी ठाकुर महंत मुख्यमंत्री बनाकर रामजन्मभूमि आंदोलन का ग्लोबीकरण का यह राजसूय यज्ञ है।
बहरहाल,वीरबहादुर सिह ने जिस तरह पूर्वी उत्तर पर्देश का कायाकल्प किया,उसका तनिको हिस्सा काम अगर महंत पूर्वी उत्तर पर्देस के लिए कर सकें,तो यह इस अब भी पिछड़े जनपद के विकास के लिहाज से बेहतर होगा।
सन्यास के बाद पूर्व आश्रम से कोई नाता नहीं होता।साधु को राजनीति और राजकाज से भी किसीतरह के नाते का इतिहास नहीं है।तो राजनीति में राजपाट संभालनेके बाद पूर्व आश्रम की याद के बदले महंत नरेंद्र सिंह नेगी अगर उत्तराखंड को यूपी का समर्थन देकर उसका कुछ भला कर सके,तो उत्तराखंड के लिए बेहतर है।
छोटा राज्य होने से भारत की राजनीति में उत्तराखंड कीकोई सुनवाई नहीं है और सत्ता चाहे किसी की हो सत्ता पर काबिज वर्चस्ववादियों को उत्तराखंड की परवाह नहीं होती।ऐसे में कोई गढ़वाली फिर यूपी जैसे बड़े राज्य का मुख्यमंत्री बन गये हैंं,यह शायद हिंदुत्वकी कारपोरेट राजनीति में केसरिया उत्तराखंड के लिए बेहतर समाचार है.
गौरतलब है कि चंद्रभानु गुप्त से पहले पंडित गोविंद बल्लभ पंत आजादी से पहले संयुक्त प्रांत की अंतरिम सरकार के प्रधानमंत्री थे,जो यूपी के भी मुख्यमंत्री बने। वे केद्र में गृहमंत्री थे.उके बेटे कैसी पंत निहायत सजज्न थे और लंबे समय तककेंद्रे में मंत्री रहे है और वाजपेयी के समय योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी रहे हैंं।फिर हेमवती नंदन बहुगुणा के बाद नारायण दत्त तिवारी उत्तर प्रदेश के तीन तीन बार मुख्यमंत्री बने।इन नेताओं ने बदले में उत्तराखंड को कुछ नहीं दिया है।
अब उत्तराखंड अलग राज्य है।वहां भी एक स्वयंसेवक त्रिवेंद्र सिंह रावत को सत्ता की बोगडोर सौंपी गयी है।चूंकि तीन चौथाई बहुमत से यूपी और उत्रतराखंड में भाजपाकी सरकारे बनी हैं,तो लोगों को ुनसे बड़ी उम्मीदें है।
महंत शुरुसे विवादों में रहे हैं और उनके खिलाफ गंभीर आरोप रहे हैं।ऐसे आरोप संगपरिवार के सभी छोटे बड़े नेताओं के बारे में रहे हैं।जाहिर है कि इन विवादों की वजह से सत्ता के शिखर पर पहुंचने का राजमार्ग उनके लिए खुला है,तो वे उसी राजमार्ग पर सरपट भागेंगे।
बेहतर हो कि संघ परिवार के राजनीतिक और आर्थिक एजंडा के मुकाबले आरोप प्रत्यारोप और आलोचना से आगे कुछ सोचा जाये.मजहबू सिय़ासत की कयामत तो अब बस शुरु ही हुई है।आगे आगे देखते जाइये।
-- 
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

बेहतर हो कि संघ परिवार के राजनीतिक और आर्थिक एजंडा के मुकाबले आरोप प्रत्यारोप और आलोचना से आगे कुछ सोचा जाये।मजहबू सिय़ासत की कयामत तो अब बस शुरु ही हुई है।आगे आगे देखते जाइये। क्या महंत नरेंद्र सिंह नेगी गढ़वाल और उत्तराखंड के हितों का भी ख्याल रखेंगे? पलाश विश्वास

बेहतर हो कि संघ परिवार के राजनीतिक और आर्थिक एजंडा के मुकाबले आरोप प्रत्यारोप और आलोचना से आगे कुछ सोचा जाये।मजहबू सिय़ासत की कयामत तो अब बस शुरु ही हुई है।आगे आगे देखते जाइये।
क्या महंत नरेंद्र सिंह नेगी गढ़वाल और उत्तराखंड के हितों का भी ख्याल रखेंगे?
पलाश विश्वास
वीडियोःhttps://www.facebook.com/palashbiswaskl/videos/1652287804799622/?l=4877951185680139761
महंत आदित्यनाथ कहते हैं कि जन्मजात गढ़वाली है और सन्यासी बनने से पहले उनका नाम नरेंद्र सिंह नेगी रहा है।उन्होंने हेमवतीनंदन बहुगुणा विश्विद्यालय गढ़वाल से बीए पास किया।
गढ़वाल के पहाड़ों से उतरकर पिछड़े पूर्वांचल में गोरखपीठ की ऐतिहासिक विरासत को संभालते हुए चाहे उनकी विचारधारा कुछ हो,वे उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री बने।गढ़वाले के हमवती नंदन बहुगुणा की तरह।
बहुगुणा परिवार के सारे लोग अब संग परिवार के सिपाहसालार हैं।तो महंत नरेंद्र सिंह नेगी  बिना किसी राजनीतिक विरासत के बहुगुणा और तिवारी के बाद पहाड़ से उतरकर मैदान में अपने धुरंधर प्रतियोगियों को पछाड़कर यूपी जैसे राज्य के मुख्यमंत्री बन गये,यह उनकी निजी उपलब्धि हैं।जिसे खारिज नहीं किया जा सकता।
विचारधारा के स्तर पर उनके एजंडे के हम खिलाफ हैं लेकिन हम उनके राजनीतिक मुकाबले की हालत में नहीं हैं।
सपा और बसपा का बंटाधार हो चुका है।
संघ परिवार,मोदी,भाजपा और महंत नरेंद्र सिंह नेगी के एजंडे में कोई अंतर्विरोध नहीं है।
यह संघ परिवार की सोची समझी दीर्घकालीन रणनीति है कि वीर बहादुर सिंह के बाद गोरखपुर अंचल के किसी कट्टर हिंदुत्ववादी महंत को उन्होंने यूपी की बागडोर सौंपी है।
2019 के चुनाव से पहले हम जय श्रीराम का नारा अब भारत के हर हिस्से में सुनने को अभ्यस्त हो जायेंगे और हिंदुत्व सुनामी के साथ आर्थिक कारपोरेटीकरण से उपभोक्ता संस्कृति का बाग बहार विचारधारा के स्तर पर बेईमान और मौकापरस्त राजनीतिक दलों को भारतीय राजनीति में सिरे से मैदान बाहर कर देगा।
जाहिर है कि संघ परिवार आगे कमसकम पचास साल तक हिंदू राष्ट्र के नजरिये से यह निर्णय किया है।जिसे अंजाम देने के लिए अपने संस्थागत विशाल संगठन के अलावा मुक्ताबाजार की तमाम ताकतेंं,मीडिया और बुद्धिजीवि तबका एक मजबूत गठबंधन बतौर काम कर रहा है।
केशव मौर्य को मुख्यमंत्री इसलिए नहीं बनाया क्योंकि संग परिवार के पास दलित सिपाहसालार इतने ज्यादा हो गये है कि उन्हें अब मायावती से कोई खतरा नजर नहीं आ रहा है।
दलित मुख्यमंत्री चुनने के बजाय कट्रहिंदुत्ववादी ठाकुर महंत मुख्यमंत्री बनाकर रामजन्मभूमि आंदोलन का ग्लोबीकरण का यह राजसूय यज्ञ है।
बहरहाल,वीरबहादुर सिह ने जिस तरह पूर्वी उत्तर पर्देश का कायाकल्प किया,उसका तनिको हिस्सा काम अगर महंत पूर्वी उत्तर पर्देस के लिए कर सकें,तो यह इस अब भी पिछड़े जनपद के विकास के लिहाज से बेहतर होगा।
सन्यास के बाद पूर्व आश्रम से कोई नाता नहीं होता।साधु को राजनीति और राजकाज से भी किसीतरह के नाते का इतिहास नहीं है।तो राजनीति में राजपाट संभालनेके बाद पूर्व आश्रम की याद के बदले महंत नरेंद्र सिंह नेगी अगर उत्तराखंड को यूपी का समर्थन देकर उसका कुछ भला कर सके,तो उत्तराखंड के लिए बेहतर है।
छोटा राज्य होने से भारत की राजनीति में उत्तराखंड कीकोई सुनवाई नहीं है और सत्ता चाहे किसी की हो सत्ता पर काबिज वर्चस्ववादियों को उत्तराखंड की परवाह नहीं होती।ऐसे में कोई गढ़वाली फिर यूपी जैसे बड़े राज्य का मुख्यमंत्री बन गये हैंं,यह शायद हिंदुत्वकी कारपोरेट राजनीति में केसरिया उत्तराखंड के लिए बेहतर समाचार है.
गौरतलब है कि चंद्रभानु गुप्त से पहले पंडित गोविंद बल्लभ पंत आजादी से पहले संयुक्त प्रांत की अंतरिम सरकार के प्रधानमंत्री थे,जो यूपी के भी मुख्यमंत्री बने। वे केद्र में गृहमंत्री थे.उके बेटे कैसी पंत निहायत सजज्न थे और लंबे समय तककेंद्रे में मंत्री रहे है और वाजपेयी के समय योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी रहे हैंं।फिर हेमवती नंदन बहुगुणा के बाद नारायण दत्त तिवारी उत्तर प्रदेश के तीन तीन बार मुख्यमंत्री बने।इन नेताओं ने बदले में उत्तराखंड को कुछ नहीं दिया है।
अब उत्तराखंड अलग राज्य है।वहां भी एक स्वयंसेवक त्रिवेंद्र सिंह रावत को सत्ता की बोगडोर सौंपी गयी है।चूंकि तीन चौथाई बहुमत से यूपी और उत्रतराखंड में भाजपाकी सरकारे बनी हैं,तो लोगों को ुनसे बड़ी उम्मीदें है।
महंत शुरुसे विवादों में रहे हैं और उनके खिलाफ गंभीर आरोप रहे हैं।ऐसे आरोप संगपरिवार के सभी छोटे बड़े नेताओं के बारे में रहे हैं।जाहिर है कि इन विवादों की वजह से सत्ता के शिखर पर पहुंचने का राजमार्ग उनके लिए खुला है,तो वे उसी राजमार्ग पर सरपट भागेंगे।
बेहतर हो कि संघ परिवार के राजनीतिक और आर्थिक एजंडा के मुकाबले आरोप प्रत्यारोप और आलोचना से आगे कुछ सोचा जाये.मजहबू सिय़ासत की कयामत तो अब बस शुरु ही हुई है।आगे आगे देखते जाइये।
-- 
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!