Sustain Humanity


Wednesday, July 29, 2015

यूं समझिये कि नंगी तलवारें अब खिलिखिलाते कमल हैं। वरना लोकतंत्र की मजबूरी कोई नहीं है वरना हिंदू राष्ट्र हैं हम शुक्रिया कि हिटलर थमे हुए हैं न्याय की गुहार लगायें जो भी बेअक्ल लोकतंत्र की मजबूरी है कि उन्हें सिर्फ पाकिस्तान जाने का फतवा है वरना आपरेशन ब्लू स्टार कहीं भी संभव है कि हम भी पाकिस्तान और बांग्लादेश बन रहे हैं सबसे पहले हिंदू राष्ट्र में सत्यमेव हटा दीजिये। गौतम बुद्ध के तमाम सील और सिद्धांत से तोबा कीजिये। समता न्याय और भ्रतृत्व से परहेज कीजिये। अहिंसा की कोई गुंजाइश नहीं है वैदिकी हिंसा में। हिंदू राष्ट्र के लिए सबसे जरुरी है कि सबसे पहले हिंदू राष्ट्र में सत्यमेव हटा दीजिये। गौतम बुद्ध के तमाम शील और सिद्धांत से तोबा कीजिये। सबसे पहले तिरंगे से अशोक चक्र हटा दीजिये और वहां हिंदुत्व और हिंदू राष्ट्र का निशान कोई टांग लीजिये और हर गैरहिंदू को जिबह कर दीजिये। पलाश विश्वास

यूं समझिये कि नंगी तलवारें अब खिलिखिलाते कमल हैं।

वरना लोकतंत्र की मजबूरी कोई नहीं है

वरना हिंदू राष्ट्र हैं हम

शुक्रिया कि हिटलर थमे हुए हैं


न्याय की गुहार लगायें जो भी बेअक्ल

लोकतंत्र की मजबूरी है कि उन्हें सिर्फ पाकिस्तान जाने का फतवा है

वरना आपरेशन ब्लू स्टार कहीं भी संभव है

कि हम भी पाकिस्तान और बांग्लादेश बन रहे हैं


सबसे पहले हिंदू राष्ट्र में सत्यमेव हटा दीजिये।

गौतम बुद्ध के तमाम सील और सिद्धांत से तोबा कीजिये।


समता न्याय और भ्रतृत्व से परहेज कीजिये।

अहिंसा की कोई गुंजाइश नहीं है वैदिकी हिंसा में।


हिंदू राष्ट्र के लिए सबसे जरुरी है कि सबसे पहले हिंदू राष्ट्र में सत्यमेव हटा दीजिये।


गौतम बुद्ध के तमाम शील और सिद्धांत से तोबा कीजिये।


सबसे पहले तिरंगे से अशोक चक्र हटा दीजिये और वहां हिंदुत्व और हिंदू राष्ट्र का निशान कोई टांग लीजिये और हर गैरहिंदू को जिबह कर दीजिये।



पलाश विश्वास

यूं समझियें कि नंगी तलवारें अब खिलिखिलाते कमल हैं।

वरना लोकतंत्र की मजबूरी कोई नहीं है


वरना हिंदू राष्ट्र हैं हम

शुक्रिया कि हिटलर थमे हुए हैं


न्याय की गुहार लगायें जो भी बेअक्ल

लोकतंत्र की मजबूरी है कि सिर्फ पाकिस्तान जाने की फतवा है


वरना आपरेशन ब्लू स्टार कहीं भी संभव है

कि हम भी पाकिस्तान और बांग्लादेश बन रहे हैं


हर चीज अगर मजहबी चश्मे से देखेंगे,तो हर चीज फिर मजहबी है और हकीकत की कोई जमीन कहीं नहीं है।


हिंदू राष्ट्र के लिए सबसे जरुरी है कि सबसे पहले हिंदू राष्ट्र में सत्यमेव हटा दीजिये।


गौतम बुद्ध के तमाम शील और सिद्धांत से तोबा कीजिये।


सबसे पहले तिरंगे से अशोक चक्र हटा दीजिये और वहां हिंदुत्व और हिंदू राष्ट्र का निशान कोई टांग लीजिये और हर गैरहिंदू को जिबह कर दीजिये।


समता न्याय और भ्रातृत्व से परहेज कीजिये।

अहिंसा की कोई गुंजाइश नहीं है वैदिकी हिंसा में।


याकूब मेनन का मामला कुळ इतना है कि न्यायिक प्रक्रिया पूरी होने से पहले फांसी का फरमान जारी हो गया।


सियासत ने डेथ वारंट जारी कर दिया है न्यायप्रणाली को ताक पर रखकर।मामला सिर्फ इतना है।


गौर करें कि राष्ट्रपति को खत लिखने वाले तमाम दस्तखत हम जैसे नाचीज के नहीं है हरगिज,उनमें तमाम दस्तखत सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीशों का है।


गौर कीजिये कि उनका तकाजा याकूब मेनन को बेगुनाह साबित करने का नहीं है।


वे सारे के सारे सजाएमौत के खिलाफ हैं और इस हक में है कि गुनाह पूरी तरह साबित होने से पहले,अपनी जान को बख्श देने की आखिरी अर्जी पर फैसला होने से पहले किसी को फांसी पर लटकाया न जाये।


कुल गरज इतना है और वे लोग इतने मुसलमां भी नहीं हैं कि सारे के सारे पाकिस्तान,बांग्लादेश,दुबई भेज दिये जायें।


ऐसे भेजने लगें तो इस मुल्क मे ऐसा कोई बचेगा नहीं जिसका दिलो दिमाग सही सलामत है।


सियासत भी नहीं बचेगी।


मुल्क तबाह हो न हो,हुकूमत भी नहीं बचेगी और याद रखें कि हिटलर को भी आखिर खुदकशी करनी होती है।


वरना जो मिसाइलमैन अभी अभी इस हिंदू राष्ट्र की सरजमीं  कह गये ,जिन्हें हम बेहतरीन सािंटिस्ट बता रहे हैं,उनकी गमी में राष्ट्रीय शोक मना रहे हैं,टीवी पर चौबीसों घंटे जिनकी चर्चा है और कसारे कागद कारे हैं जिनके सम्मान में।सोशल साइट पर हर कवर पर जिनकी तस्वीर है और लोगों ने उनकी तस्वीर से प्रोफाइल भी बदला है,वे भी राष्ट्रद्रोही हैं क्योंकि वे भी सजाएमौत के खिलाफ थे।


वरना जिस शख्स ने इक्कीस साल जेल में बिता दिये,उसको फांसी क्या,उम्र कैद क्या।


लोकतंत्र की मजबूरी है कि हर नागरिक को अपनी जान माल की हिफाजत का आखिरी मौका मिलना चाहे चाहे वही हो गुनाहगार।


न्यायिक प्रक्रिया पूरी होने से पहले लोकतंत्र में किसी को यूं लटका देना न्याय व्यवस्था की अवमानना है।


मामला सियासत का है खालिस जिसे मामला मजहबी बना दिया गया है।


वरना यह हिंदू बनाम मुसलमान मामल कतई नहीं है जैसा कि कोई दंगा फसाद बी यकीनन हिंदू बनाम मुसलमान कहीं होता नहीं है।


यह सियासत का तकाजा है कि हर मामले को मजहबी बनाया जाये।सियासत अब दरअसल मजहब है।मजहबी सियासत।


अब इसका मतलबी भी समज लीजिये कि विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने मांग की है कि सलमान खान को पाकिस्तान भेज देना चाहिए।


फासिज्म के राजकाज का असल चेहरा दरअसल कोई महाजिन्न, टाइटेनिक बाबा या बिररिंची बाबा नहीं है यकीनन,वह दरअसल मुकम्मल हिंदुत्व ब्रिगेड है और देश का कानून भी वही हिंदुत्व है।


बाकी वही लोकतंत्र हैं,जिसके सूअरबाड़े में असली कोई जंगली सूअर ऐसा नहीं है जो किसी किसान के खेत जोत दें।


सलामती चाहिए तो पाकिस्तान चले जायें सल्लू मियां।चाहें तो दुबई में बंगला बांध लें क्योंकि मजहबी दीगर मुल्कों का दस्तूर यही है कि इत्तफाक न हुआ और आजाद ख्याल तबीयत हुई और जुबान बेलगाम हुई तो दुबई या लंदन या न्यूयार्क या पेरिस में आशियाना भी कोई होना चाहिए।तसलिमा नसरीन को देख लीजिये।


शर्म है कि बांग्लादेश और पाकिस्तान में मजहब के नाम जो हो रहा है।इस्लाम के नाम अरब और अफ्रीका में जो हो रहा है,अबतक हिंदूराष्ट्र में वह सबकुछ दोहराया नहीं गया है।


फौरन बिस्मिल्ला कर दें हमारे हुजूर।


हमारी समझ में नहीं आती यह बात कि औरत मर्द में मुहब्बत होती है किसी वाकये में तो न मजहब आड़े आता है और न जात पांत,न रंग रुप,बच्चे की किलकारियां तमाम अड़चनों को रपे रखकर गूंजती है क्यों और तब फिंजा क्यों इतनी खिलखिलाये हैं।


ऐसा क्यों न हो कि दीगर जात,दीगर मजहब,दीगर रंग के दर्म्यान हो मुहब्बत तो कायनात इस बदतमीजी पर मेहरबान क्यों है और पिर दुनिया उसके खिलाफ क्यों है।


फिर यह बात भी समझ से परे हैं कि जनमजात किसी का कोई मजहब क्यों नहीं होता और मजहब की तहजीब क्यों नहीं आती है जनमजात।तो किसी सुनामी अनामी की जरुरत ही नहीं होती।


बहरहाल,जहां तक न्याय का मामला है,वह कुल मिलाकर इतना है, जैसे कि दावा है कि कोई गुनाहगार छूट जाये तो गम नहीं,लेकिन किसी बेगुनाह को सजा नहीं होना चाहिए।


अब देखिये जनाब कि सल्लू मियां  होंगे बहुत बड़े स्टार,होंगे  हर दिल अजीज,होगा हर ईद उन्हीं के नाम,परदे पर वे बजरंगी भाईजान हो सकते हैं और अपने खिलाफ तमाम मामलों में वे बेकसूर खलास भी निकल सकते हैं,लेकिन दरअसल वे मुसलमान हैं और बजरंगी या बजरंगवली वे हरगिज नहीं हो सकते।


न उन्हें हिंदू होने का कोई विशेषाधिकार है,देश हिंदुओं का है और एक मुसलमान होकर वे जब देश के बारे में बोल रहे हैं तो यकीनन राष्ट्र की सुरक्षा के लिए खतरा हैं और उनकी सबसे कम सजा यह है कि उन्हें इस मुल्क से रिहा हो जाना चाहिए।पाकिस्तान जायें वे।


मुश्किल यह है कि वे सुपरस्टार भी है ,जिनकी वक्त बेवक्त सियासत की मार्केंटिंग के लिए या फिर सीधे मजहब की मार्केटिंग की सख्त दरकार होती है और दिलजोई की खातिर पतंग उड़ाने की तस्वीरें भी जारी करनी होती हैं।


तो उन्हें यूपी के अनजान,असम के बेबस और कश्मीर घाटी के बेगुनाह मुसलमानों की तरह सीधे मौत के घाट उतारने का इंतजाम तो हो ही नहीं सकता।

लोकतंत्र की यही बस मजबूरी है कि वक्त बेवक्त गुजरात या पंजाब या कश्मीर या असम दोहराया नहीं जा सकता और हर कहीं सलवाजुड़ुम भी नहीं आजमाया जाता।


इसी मजबूरी का नाम लोकतंत्र है वरना हम मुकम्मल हिंदू राष्ट्र है।


मुश्किल यह है कि हम किसी खातून को तसलिमा नसरीन बना नहीं सके हैं।सानिया बिटिया के खिलाफ खूब बोले हैं लेकिन उसका करिश्मा यह कि वे जब तब तिरंगा फहरा देती हैं और कोई फतवा उनके खिलाफ चल नहीं सकता।


पाकिस्तान की मजहबी हुकुमत ने ढाका विश्वविद्यालय में बख्तरबंद  तोपें भेजकर गोले दागकर बांग्लादेश के बागी जेहन के कत्लेआम को अंजाम दिया था।


सूअरबाड़े में कम नौटंकी होती नहीं है और इत्तफाकन सारे के सारे रंगबिरंगी नगाड़े खामोश हैं।


आंखों देखा हाल लाइव है।


पुणे में कुछ बच्चे बागी हैं तो देश के तमाम आईआईटी मजहब के खिलाफ हैं।सीधे हिंदुत्व के खिलाफ हैं और राष्ट्रद्रोही हैं वहां सारे छात्र और शिक्षक।


तो किसी वाइस चांसलर या चेयरमैन को बदलकर बगावत खत्म यकीनन कर देना नामुमुकिन है।


जाहिर है कि यह मसला स्मृति ईरानी के बस में नहीं है।


डाउ कैमिकल्स के वकील गिरोह देश बेचने में मशगुल हैं और जाहिर है कि कोई वकील उन्हें मिल नहीं रहा जो इमरजेंसी लगाने की वाजिब दलील गढ़ लें फटाफट।


वरना जब तोपों से स्वर्ण मंदिर गिराया जा सकता है तो बगावत के सारे ठिकाने,राष्ट्रद्रोही सेकुलर तबके को क्यों नहीं तोपों से उड़ा देते? क्यों नहीं विश्वविद्यालयों को और तामाम आईआईटी और तमाम संस्थानों को बारुदी सुरंगों ऐसे फौरन उड़ा देते हैं?


यह लोकतंत्र की मजबूरी है।

वरना मौका मिला तो वे लोकतंत्र की भी धज्जियां उड़ा सकते हैं।


सत्तर और अस्सी के दशक में देशभर में ऐसा बार बार हुआ है ,जब कांग्रेस ही आरएसएस थी।जैसे अब भाजपा आरएसएस है।


अब देश फिर वही सत्तर अस्सी दशक है।


फिर पंजाब जलने लगा है।

कश्मीर तो हमेशा ज्वालामुखी है।

असम कत्लेआम है।


मणिपुर आफसा है तो मध्यभारत और समूचा आदिवासी भूगोल सलवा जुड़ुम है।


अब लोकतंत्र की उतनी मजबूरी भी नहीं है।


तमाम कायदे कानून बदल दिये गये हैं और बदले जा रहे हैं।

दसों दिशाओं में अश्वमेध के घोड़े दौड़ रहे हैं।


सारे सांढ़ छुट्टा घूम रहे हैं।


गला नापने लगे हैं तमाम हत्यारे।


जाहिर है कि जम्हुरियत की उतनी मजबूरी भी नहीं है और न नागरिकों के कोई हकोहकूक हैं और न इंसानियत का कोई तकाजा,फिरभी शुक्रिया हिटलर महाराज का ,वे जो लोकतंत्र की मजबूरी से विदेशी पूंजी के लिहाज से थमे हुए हैं।


यूं समझिये कि तलवारें चमक रही हैं।

यूं समझियें कि नंगी तलवारें अब खिलिखिलाते कमल हैं।



--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

Tuesday, July 28, 2015

Nepal's Gadhimai festival bans animal sacrifice

Nepal's Gadhimai festival bans animal sacrifice
Nepal's Gadhimai festival bans animal sacrifice - The practice of animal sacrifice has been banned at Nepal's Gadhimai festival, the world's biggest animal...
DNAINDIA.COM|BY DAILY NEWS & ANALYSIS

49% of children out of school are SC/STs, 25% are Muslims: Survey

A Union government-backed survey has revealed a disturbing trend: in the six years since the Right to Education Act, around 60 lakh children between ages...
TIMESOFINDIA.INDIATIMES.COM

Before you invest on land.


অবশেষে এক ছবিতে শাহরুখ-সালমান

অবশেষে এক ছবিতে শাহরুখ-সালমান
www.prothom-alo.com/entertainment/article/587116
পাঁচ বছর একে অন্যের ছায়া মাড়াননি। অবশেষে ২০১৩ সালে ভারতের কংগ্রেস নেতা বাবা সিদ্দিকের ইফতার অনুষ্ঠানে বুকে বুক মিলিয়ে দ্বন্দ্ব মাটিচাপা দেন শাহরুখ-সালমান। সেই থেকে তাঁদের ভক্তেরা পছন্দের এই দুই তারকাকে এক ছবিতে দেখার আশায় বুক বেঁধেছিলেন। এবার সম্ভবত তাঁদের আশা...
PROTHOM-ALO.COM

विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने मांग की है कि सलमान खान को पाकिस्तान भेज देना चाहिए।


विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने मांग की है कि सलमान खान को पाकिस्तान भेज देना चाहिए।

विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण भाई तोगड़िया ने बॉलिवुड...
--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

উইন্ডোজ ১০ ফ্রি ডাউনলোড যেভাবে করবেন


মাইক্রোসফটের দাবি, উইন্ডোজ ১০ অপারেটিং সিস্টেম হবে অধিক দ্রুতগতির, অধিক নিরাপদ ও সহজ। নতুন এই অপারেটিং সিস্টেমে স্টার্ট বাটন ফিরে আসছে যা উইন্ডোজ ৮ এর সময় সরিয়ে ফেলেছিল মাইক্রোসফট http://www.prothom-alo.com/technology/article/587089

আনুষ্ঠানিকভাবে মাইক্রোসফট তাদের উইন্ডোজ ১০ সফটওয়্যারটি উন্মুক্ত করবে আগামীকাল ২৯ জুলাই। উইন্ডোজ ৭ এবং এর পরের সংস্করণের উইন্ডোজ সফটওয়্যার ব্যবহারকারীরা বিনা মূল্যেই উইন্ডোজ ১০ হালনাগাদ করে নিতে পারবেন। নতুন অপারেটিং সিস্টেমটি হালনাগাদ করার পদ্ধতির বিষয়েও...
--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!