Sustain Humanity


Saturday, January 9, 2016

सच्ची बात यह है कि नाना पाटेकर से मुझे इस विस्मय की उम्मीद बिलकुल नहीं थी . मुझे हमेशा उनके काम में थोड़ी-सी अतिनाटकीयता लगती थी . जो भी हो , यह तो अब साफ़ है कि नाना के अभिनेता को "नटसम्राट" की इस क्लासिक भूमिका के लिए ही बनाया गया था ! इस फ़िल्म में वे पिछले जमाने के लोकप्रिय सिद्ध अभिनेता की भूमिका में हैं. यहां थोड़ी-सी अतिनाटकीयता वरदान बन जाती है . कुसुमाग्रज के इस प्रसिद्ध नाटक की कथावस्तु से तो सभी परिचित हैं , फिल्म उसे एक नये मंच पर ले जाती है . नाटक में बुजुर्गों और उनेक बच्चों के बीच के जटिल रिश्ते की कथा है. महेश मांजरेकर की इस फिल्म में वह कलाकार और सच्चे इंसानदोस्त इंसान के अनिवार्य अकेलेपन , अवसाद और त्रासदी की महागाथा बन जाती है . मराठी सिनेमा के जारी वसंत की यह नई करवट है . एक -एक दृश्य आँखों के लिए एक उत्सव है . न देख पाईं हो तो जल्दी कीजिएगा . यह फिल्म शहर में बहुत दिन नहीं रह पाएगी.

Ashutosh Kumar
सच्ची बात यह है कि नाना पाटेकर से मुझे इस विस्मय की उम्मीद बिलकुल नहीं थी . मुझे हमेशा उनके काम में थोड़ी-सी अतिनाटकीयता लगती थी . जो भी हो , यह तो अब साफ़ है कि नाना के अभिनेता को "नटसम्राट" की इस क्लासिक भूमिका के लिए ही बनाया गया था ! 
इस फ़िल्म में वे पिछले जमाने के लोकप्रिय सिद्ध अभिनेता की भूमिका में हैं. यहां थोड़ी-सी अतिनाटकीयता वरदान बन जाती है . 
कुसुमाग्रज के इस प्रसिद्ध नाटक की कथावस्तु से तो सभी परिचित हैं , फिल्म उसे एक नये मंच पर ले जाती है . नाटक में बुजुर्गों और उनेक बच्चों के बीच के जटिल रिश्ते की कथा है. महेश मांजरेकर की इस फिल्म में वह कलाकार और सच्चे इंसानदोस्त इंसान के अनिवार्य अकेलेपन , अवसाद और त्रासदी की महागाथा बन जाती है .
मराठी सिनेमा के जारी वसंत की यह नई करवट है . एक -एक दृश्य आँखों के लिए एक उत्सव है . न देख पाईं हो तो जल्दी कीजिएगा . यह फिल्म शहर में बहुत दिन नहीं रह पाएगी.