Sustain Humanity


Thursday, December 17, 2015

विष्णुचंद्र शर्मा:तीन कविताएँ

तीन कविताएँ :

1.संसद समाचार 
-----------------
जनता पूछ रही है : 
गाँधी को मरे कितने साल हुए !
सांसद बता रहे हैं : सड़ी हुई गाँधी की लाश 
अभी तक लटक रही है संसद में !

2. विरोध 
---------
रेत पर मैं 
धूप की चटाई बुन रहा हूँ 
संसद में 
दिन के उजाले में सांसदों का 
दम घुट रहा है !

3. कारीगर 
-------- ----
ढाका की 
बारीक चादर मुझे 
सूरज ने 
दी है अभी |

संसद के बाहर 
सूर्य!
हाथ कटे
कारीगरों का 
बयान 
लिख रहा है !

- विष्णुचंद्र शर्मा