Sustain Humanity


Monday, May 2, 2016

मुसलमानों के वोट से बनेगा जनादेश बम से चार मरे तो छह साल की मासूम बच्ची ईशानी को हवा में उछाल दिया भूतों ने और उसे चोटें भी खूब आयी है। इस लोकतंत्र में वोटर कितने आजाद हैं,बंगाल के नतीजे बतायेंगे,बाकी हिंसा का सिलसिला जारी आतंक का यह रसायन अंतिम चरण में भी काम करेगा कि देखो,बिगड़ैल जनता से सत्ता कैसे निबटती है। केंद्रीय बलों और चुनाव आयोग की वाम कांग्रेस भाजपा के साथ मिलीभगत का आरोप तो वे शुरु से लगाती रही हैं,अब आखिरी चरण के लिए अपनी चुनाव सभाओं में अपनी ही पुलिस पर वे खूब बरस रही हैं और खुलेआम कह रही हैं कि उनकी पुलिस बिगड़ गयी है और चुनाव जीतने के बाद वे बिगड़ैल पुलिस का इलाज करेंगी।जिन कल्बों को पिछले पांच साल के दौरान राज्यकर्मचारियों का वेतर रोककर खैरात बांटे गये,वे भी उनके हक में वोट नहीं करा सकें हैं,यह शिकायत करके मुख्यमंत्री खुलेआम कह रही हैं कि चुनाव जीत लेने के बाद सबकी खबर लेंगी वे। यह तो बाद की बात है।फिलहाल जहां वोट पड़ चुके हैं ,वहां विपक्षी एजंटों,नेताओं और कार्यकर्ताओं के अलावा वोटरों को भी सबक खूब पढ़ाया जा रहा है।हाथ पांव तोड़े जा रहे हैं।आगजनी बमबाजी वगैरह वगैरह

ABP Anand reports:

মালদায় বোমা উদ্ধারের সময় বিস্ফোরণ, নিহত সিআইডি বম্ব স্কোয়াডের ২ কর্মী, জখম ১

মালদায় বোমা উদ্ধারের সময় বিস্ফোরণ, নিহত সিআইডি বম্ব স্কোয়াডের ২ কর্মী, জখম ১

মালদা: তৃণমূল নেতার বাড়িতে লুকোনো বোমা উদ্ধারের সময় বিস্ফোরণ। সিআইডির বম্ব স্কোয়াডের দুই কর্মীর মৃত্যু। জখম একজনের অবস্থা আশঙ্কাজনক। উপযুক্ত সতর্কতা না নেওয়ার


পুলিশকে
পুলিশকে 'হুমকি' মমতার, সিডি চেয়ে পাঠাল কমিশন

কলকাতা: পুলিশের উদ্দেশ্যে মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়ের হুমকি নিয়ে মুখ্য নির্বাচনী...

ফের আক্রান্ত শৈশব! ফের কাঠাগড়ায় তৃণমূল
ফের আক্রান্ত শৈশব! ফের কাঠাগড়ায় তৃণমূল

দক্ষিণ ২৪ পরগনা: ভোটের মধ্যে ফের আক্রান্ত শৈশব! হালিশহর, ভাঙড়, হরিদেবপুরের পর এবার...

मुसलमानों के वोट से बनेगा जनादेश

बम से चार मरे तो छह साल की मासूम बच्ची ईशानी को हवा में उछाल दिया भूतों ने और उसे चोटें भी खूब आयी है।

इस लोकतंत्र में वोटर कितने आजाद हैं,बंगाल के नतीजे बतायेंगे,बाकी हिंसा का सिलसिला जारी

आतंक का यह रसायन अंतिम चरण में भी काम करेगा कि देखो,बिगड़ैल जनता से सत्ता कैसे निबटती है।


केंद्रीय बलों और चुनाव आयोग की वाम कांग्रेस भाजपा के साथ मिलीभगत का आरोप तो वे शुरु से लगाती रही हैं,अब आखिरी चरण के लिए अपनी चुनाव सभाओं में अपनी ही पुलिस पर वे खूब बरस रही हैं और खुलेआम कह रही हैं कि उनकी पुलिस बिगड़ गयी है और चुनाव जीतने के बाद वे बिगड़ैल पुलिस का इलाज करेंगी।जिन कल्बों को पिछले पांच साल के दौरान राज्यकर्मचारियों का वेतर रोककर खैरात बांटे गये,वे भी उनके हक में वोट नहीं करा सकें हैं,यह शिकायत करके मुख्यमंत्री खुलेआम कह रही हैं कि चुनाव जीत लेने के बाद सबकी खबर लेंगी वे।


यह तो बाद की बात है।फिलहाल जहां वोट पड़ चुके हैं ,वहां विपक्षी एजंटों,नेताओं और कार्यकर्ताओं के अलावा वोटरों को भी सबक खूब पढ़ाया जा रहा है।हाथ पांव तोड़े जा रहे हैं।आगजनी बमबाजी वगैरह वगैरह जारी हैं।जिन बमों का इस्तेमाल बूथों पर हो नहीं पाया है,वे भी जहां तहां फटने लगे हैं।नतीजे आने के बाद बाकी हिसाब बराबर होगा,जाहिर है।

एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास

हस्तक्षेप

বোমা নিষ্ক্রিয় করতে গিয়ে মৃত্যু হল সিআইডির বম্ব স্কোয়াডের দুই অফিসারের

বোমা নিষ্ক্রিয় করতে গিয়ে মৃত্যু হল সিআইডির বম্ব স্কোয়াডের দুই অফিসারের

ঝিটকা আর আলিপুরদুয়ারের পুনরাবৃত্তি এবার মালদার বৈষ্ণবনগরে। বোমা নিষ্ক্রিয় করতে গিয়ে মৃত্যু হলেন সিআইডির বম্ব স্কোয়াডের দুই অফিসার। মৃতের নাম বিশুদ্ধানন্দ মিশ্র ও সুব্রত চৌধুরী। জখম আরও এক অফিসার মনিরুজ জামালের অবস্থা আশঙ্কাজনক। মালদহ মেডিক্যাল কলেজ হাসপাতালে ভর্তি রয়েছেন তিনি।মালদার বৈষ্ণবনগরে বিস্ফোরণের তদন্তে যান ওই তিনজন

आखिर इस चुनाव में भी मुसलमानों के वोट से जनादेश बन रहा है बंगाल में।35 साल तक इस अटूट वोट बैंक के सहारे बंगाल में वामशासन जारी रहा है और औचक नंदीग्राम,सिंगुर जैसे तमाम मुस्लिम बहुल इलाकों के गरीब किसानों की जमीन पर अंधाधुंध शहरीकरण और औद्योगीकरण की आंधी से वह वोट बैंक दीदी के खाते में स्थानांतरित हो गया है।संघ परिवार की हर चंद कोशिश से वह वोटबैंक केसरिया सुनामी के मुकाबले किसके साथ है या सिरे से पलट गया है,कहना मुश्किल है।


हिंदू राष्ट्र में लोकतंत्र,कानून का राज और संविधान का कुल पर्यावरण यह है कि जैसे हिमालय में दावानल है और उसकी आंच मैदानों तक कहीं पहुंचती ही नहीं है।


आतंक का रसायन जिनके लिए हैं,उनके अलावा बाकी लोगों को अहसास भी नहीं है कि कितीन स्वतंत्रता ,कितनी सहिष्णुता और कितनी बहुलता हमारी सांस्कृतिक विरासत की अभी बची खुची सही सलामत है।


इस मर्ज का क्या कहिए कि अब भी हर चुनाव में बूथों की रक्षा करने के लिए सरहद पर दुश्मनों का मुकाबले तैनात रहनेवालों को लोकतंत्र उत्सव में जनादेश की पहरेदारी के लिए तलब किया जाता है और उनकी मौजूदगी में भी वोटर समीकरण में राजनीति कम अपनी जान माल की सलामती का सबसे ज्यादा ख्याल करता है।


हिंदुत्व का एजंडा इस कदर सर चढ़कर बोल रहा है कि देश में कहीं भी चुनाव हो मुसलमानों का सरदर्द यही होता है कि किसे वोट दें तो उनकी जान और माल सही सलामत रहनेवाली है।


बंगाल के मुसलमानों ने इस पहेली को कैसे सुलझाया है,इस पर बंगाल का जनादेश निर्भर है।संघ परिवार की नकली सुनामी से डर कर भाजपा को हराने के लिए उनने किसे वोट डाला है,यह तय करने वाला है जनादेश।

কসবায় সিপিএম কর্মীকে বিবস্ত্র করে মার, আক্রান্ত কংগ্রেসও

কসবায় সিপিএম কর্মীকে বিবস্ত্র করে মার, আক্রান্ত কংগ্রেসও

কলকাতা: যে রাতে বাঘাযতীনে আক্রান্ত হল সিপিএম সমর্থক পরিবারগুলি, সে রাতেই সিপিএমের উপর...


बहरहाल धर्मोन्मादी इस ध्रूवीकरण से फिलहाल फायदा दीदी को नजर आ रहा है।इसका फौरी नतीजा यह हो सकता है कि दीदी की सत्ता में वापसी के साथ बिहार फार्मूले पर विपक्ष की हैरतअंगेज गोलबंदी से निबटकर बेहतर हालत में यूपी का चुनाव लड़ सकती है भाजपा,बाकी कहीं के नतीजे कुछ भी हो,फर्क पड़ता नहीं है।


बहरहाल बंगाल में आखिरी चरण के लिए मतदान 5 मई को निबट जायेगा और फिर 19 मई तक लंबा इंतजार।जंगल महल के बाद चुनावों में फर्जी मतदान की शिकायतें बेहद कम रही तो कमसकम मतदान के दौरान हिंसा छिटपुट ही रही।


आगजनी बमबाजी वगैरह वगैरह जारी हैं।जिन बमों का इस्तेमाल बूथों पर हो नहीं पाया है,वे भी जहां तहां फटने लगे हैं।नतीजे आने के बाद बाकी हिसाब बराबर होगा,जाहिर है।


मसलन मालदा जिले के जौनपुर में एक मकान में कथित रूप से बम बनाते वक्त रविवार देर रात विस्फोट होने से चार लोगों की मौत हो गई। जबकि छह लोग घायल हो गए। गौरतलब है कि यह घटना ऐसे समय पर हुई है जब पांच मई को राज्य में आखिरी चरण के चुनाव होने हैं।पुलिस अधीक्षक सैयद वकार रजा ने बताया कि यह घटना उस समय हुई जब बांग्लादेश की सीमा से सटे इलाके में देर रात करीब एक बजे गियासु शेख के मकान में बम बनाए जा रहे थे। उन्होंने बताया कि इस घटना में स्थानीय गुंडे शामिल थे। गियासु फरार है। जिले में 17 अप्रैल को चुनाव हुआ था। यह मकान तृणमूल नेता का बताया जा रहा है।तृणमूल का इंकार।


इसकी उलट खबर यह है कि धमाके की गूंज सुनाई दी है और मालदा में तृणमूल कांग्रेस के एक पंचायत प्रधान समेत चार लोगों की बम से उड़कार हत्या कर दी गई है। हत्या के लिए कथित कांग्रेस समर्थकों को आरोपी बताया जा रहा है।

घटना मालदा के बैष्णबनगर की है। तृणमूल का आरोप है  कि चुनाव में कांग्रेस को वोट नहीं देने के कारण इस वारदात को अंजाम दिया गया।


बहरहाल पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है, वहीं मालदा जिला कांग्रेस के महासचिव नरेंद्रनाथ तिवारी ने इस ओर आरोपों को खारिज किया है। उनका कहना है कि यह कांग्रेस को बदनाम करने की साजिश है।


इस सिलसिले में  पुलिसका बयान गौरतलब है, ''एक घर में हुए एक विस्फोट में चार लोगों की मौत हो गई और चार अन्य लोग घायल हो गए। प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार, घर में देसी बम रखे हुए थे, जिनमें विस्फोट हो गया।'' घायलों को मालदा मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


केंद्रीय वाहिनी और चुनाव आयोग की इस सिलसिले में तारीफ करनी ही होगी कि भूतों के नाच पर अंकुश तो लगा ही जनादेश लूटने के दहशतगर्द इंतजामात को भी अंजाम तक पहुंचने नहीं दिया।कहा जा रहा है कि इतना शांतिपूर्ण मतदान दशकों में नहीं हुआ है।यही फौरी अमन चैन दीदी के सरदर्द का सबब है।


पिछले चुनाव के चुपचाप फूल छाप की यादे ताजा हैं और 2011 में यादवपुर से तत्रकालीन मुख्यमंत्री की हार का अनुभव भी धूमिल हुआ नहीं है।बिगड़ैल जनता का कोई अचूक इलाज किसी की मझ से बाहर है।तब भी समझा जा रहा था कि वाम जनाधार अटूट तो मुसलमानों का वोटबैंक जस का तस।


सभाओं में तब भी भारी भीड़ थी वाम समर्थन में और तब बूथों पर वाम वर्चस्व ही दीख रहा था।जनता ने चुपचाप परिवर्तन कर दिया और सत्ता के लिए उस परिवर्तन की याद से बचने के लिए बेलगाम हिंसा ही सबसे बढ़िया जवाब सूझ रहा है।हिंसा थम नहीं रही है।


हालीशहर में तीन साल की जख्मी बच्ची की तस्वीर अभी हटी नहीं है कहीं से तो कैनिंग में पोस्चर को पतंग बना देने की सजा भी याद है तो अब दीदी के खास तालुक दक्षिण कोलकाता के हरिदेवपुर में एक मासूम पर फिर हमला हो गया।जहां से कार्टून शेयर करने वाले यादवपुर विश्वविद्यालय के निर्दलीय प्रोफेसर अंबिकेश वाम कांग्रेस गठबंधन के प्रत्याशी हैं।


छह साल की मासूम बच्ची ईशानी को हवा में उचाल दिया भूतों ने और उसे चोटें भी खूब आयी है।


आरोप है कि रविवार की शाम से लगभग पूरे  दक्षिण कोलकाता में कस्बा,बाघा जतीन,पेयाराबागान,गांगुलीबागान,वैष्णवघाटा,पाचुली वगैरह वगरह स्थानों पर फर्जी मतदान में नाकाम भूतों की बाइक वाहिनी हंगामा बरपा रही है।


करीब सौ बाइक के साथ उनका अश्वमेध जारी है और पुलिस की मौजूदगी में ही विपक्षी समर्थकों,कार्यकर्ताओं और आम वोटरों पर हमले हो रहे हैं।ये हमले टीवी पर लाइव है।तो आतंक का यह रसायन अंतिम चरण में भी काम करेगा कि देखो,बिगड़ैल जनता से सत्ता कैसे निबटती है।


जाहिर है कि सत्ता दल और सरकार तमाम लाइव खबरों का खंडन करने में लगी है।


इसी सिलसिले में हरिदेवपुर के पेयाराबागान के एक समर्थक की छह साल की बच्ची ईशानी पात्र को भी लोकतंत्र का सबक सिखाया गया है।उसका जुर्म इतना है कि उसकी चाची स्मिता पात्र बालिगंज विधानसभा क्षेत्र में मंत्री सुब्रत मुखर्जी के खिलाफ कांग्रेस प्रत्याशी कृष्णा देवनाथ की पोलिंग एजंट रही हैं।


बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अमन चैन बहाली के साथ हुए इस चुनाव से खुश नहीं हैं।


केंद्रीय बलों और चुनाव आयोग की वाम कांग्रेस भाजपा के साथ मिलीभगत का आरोप तो वे शुरु से लगाती रही हैं,अब आखिरी चरण के लिए अपनी चुनाव सभाओं में अपनी ही पुलिस पर वे खूब बरस रही हैं और खुलेआम कह रही हैं कि उनकी पुलिस बिगड़ गयी है और चुनाव जीतने के बाद वे बिगड़ैल पुलिस का इलाज करेंगी।


जिन कलबों  को पिछले पांच साल के दौरान राज्य कर्मचारियों का वेतन रोककर खैरात बांटे गये,वे भी उनके हक में वोट नहीं करा सकें हैं,यह शिकायत करके मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुलेआम कह रही हैं कि चुनाव जीत लेने के बाद सबकी खबर लेंगी वे।


हालांकि  ममता बनर्जी ने सोमवार को भरोसा जताया कि उनकी पार्टी ''बहुमत'' का आंकड़ा हासिल कर चुकी है। फिरभी उन्होंने राज्य में तैनात केन्द्रीय बलों पर मतदाताओं से ''दुर्व्यवहार'' करने का आरोप लगाया।


दीदी कैसे इंच इंच का हिसाब बराबर कर देंगी ,यह तो बाद की बात है।फिलहाल जहां वोट पड़ चुके हैं ,वहां विपक्षी एजंटों,नेताओं और कार्यकर्ताओं के अलावा वोटरों को भी सबक खूब पढ़ाया जा रहा है।हाथ पांव तोड़े जा रहे हैं।


Bengali TV Channel 24 Ghanta reports

বাম-কংগ্রেসের জোট, ফেভিকলের মজবুত জোড়, বললেন সূর্যকান্ত মিশ্রবাম-কংগ্রেসের জোট, ফেভিকলের মজবুত জোড়, বললেন সূর্যকান্ত মিশ্র

বাম-কংগ্রেসের জোট, ফেভিকলের মজবুত জোড়। পূর্ব মেদিনীপুরের চণ্ডীপুরের জনসভায় বললেন সূর্যকান্ত মিশ্র। সিপিএম রাজ্য সম্পাদকের দাবি, এই জোট রাজ্যে এক স্থায়ী সরকার দেবে। প্রায় একমাস অতিক্রান্ত। ভোট এসে ঠেকেছে তার শেষ দফায়। জয়ের দাবি আগেই করেছেন। বিরোধী দলনেতা এবার নিশানা করলেন প্রার্থী মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়কে।

কোচবিহারের সভা থেকে ফের বাহিনীকে তোপ মমতা বন্দ্যোপাধ্যয়েরকোচবিহারের সভা থেকে ফের বাহিনীকে তোপ মমতা বন্দ্যোপাধ্যয়ের

কোচবিহারের সভা থেকে ফের বাহিনীকে তোপ মমতা বন্দ্যোপাধ্যয়ের। অভিযোগ করলেন, সিপিএম -বিজেপির কথা শুনে চলছে বাহিনী। তবে তৃণমূলের ক্ষমতায় ফেরা নিয়ে আত্মবিশ্বাসী তৃণমূল নেত্রী। বছর ছয়েক  আগেও  জঙ্গল মহল তখন অশান্ত। মাওবাদীদের বাড়াবাড়ি। সেসময় জঙ্গল মহলে গিয়ে কেন্দ্রীয় বাহিনী প্রত্যাহারের দাবিতে সরব হন তত্কালীন বিরোধী নেত্রী। এত বছর পর সেই বাহিনীর বিরুদ্ধে ফের সরব  মুখ্যমন্ত্রী মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়। অভিযোগ সিপিএম বিজেপির কথা শুনে চলছে বাহিনী।

হলদিবাড়িতে মুকুল রায়ের সভা বন্ধ করে দিল কমিশন, মুখ্যমন্ত্রীর সাফ ঘোষণা, 'জিতে গেছি'হলদিবাড়িতে মুকুল রায়ের সভা বন্ধ করে দিল কমিশন, মুখ্যমন্ত্রীর সাফ ঘোষণা, 'জিতে গেছি'

হলদিবাড়িতে মুকুল রায়ের সভা বন্ধ করে দিল কমিশন। হলদিবাড়ি কমলাকান্ত হাইস্কুলের মাঠে তৃণমূলের নির্বাচনী জনসভা চলছিল। বারোটা থেকে তিনটে পর্যন্ত মেখলিগঞ্জের তৃণমূল কংগ্রেস প্রার্থী অর্ঘ্য রায় প্রধানের সমর্থনে জনসভার অনুমতি নেওয়া হয়েছিল। সে সময় সেখানে হাজির হন কমিশনের কর্মীরা। তাঁরাই সভা বন্ধ করে দেন। সভা মঞ্চ ছাড়েন তৃণমূল নেতা মুকুল রায় এবং অভিনেতা দেব।

সুজন চক্রবর্তীর নির্বাচনী এজেন্টের বাড়িতে হামলা, অভিযুক্ত তৃণমূল  সুজন চক্রবর্তীর নির্বাচনী এজেন্টের বাড়িতে হামলা, অভিযুক্ত তৃণমূল

ভোট পরবর্তী হিংসা বাঘাযতীনের রবীন্দ্রপল্লীতে। সিপিএমের অভিযোগ, গতকাল রাতে যাদবপুর কেন্দ্রের প্রার্থী সুজন চক্রবর্তীর নির্বাচনী এজেন্ট বুদ্ধদেব ঘোষের বাড়িতে হামলা চালায় তৃণমূল কর্মীরা। মারধর করা হয় নির্বাচনী এজেন্ট বুদ্ধদেব ঘোষকে। এলাকার আরও আট থেকে দশটি সিপিএম কর্মীর বাড়িতে হামলা চালানো হয় বলে অভিযোগ।  চলে বাড়ি ভাঙচুর। বেশকয়েকটি বাইকও ভাঙচুর করা হয়। অন্যদিকে তৃণমূলের অভিযোগ, তাদের ওপরেই পাল্টা হামলা চালিয়েছে সিপিএম। পুলিসের বিরুদ্ধে পক্ষপাতিত্বের অভিযোগ তুলেছে তৃণমূল নেতৃত্ব। তাদের অভিযোগ, তৃণমূল কর্মীরা হামলায় আক্রান্ত হলেও পুলিসের লাঠির ঘায়েও তাদের বেশকয়েকজন তৃণমূল কর্মী জখম হয়েছেন।

টানা তাপপ্রবাহের পর খানিক স্বস্তি দিল কালবৈশাখীটানা তাপপ্রবাহের পর খানিক স্বস্তি দিল কালবৈশাখী

কবে বৃষ্টি আসবে? এত গরম যে আর সহ্য হচ্ছে না! মানুষের এত প্রার্থনার ফল বোধহয় মিলল। টানা তাপপ্রবাহের পর খানিক স্বস্তি। কলকাতা ছাড়া দক্ষিণবঙ্গের বেশ কিছু জেলায় দুপুরের পর থেকেই শুরু হয় ঝড়বৃষ্টি। বর্ধমান, হাওড়া,নদিয়া , মুর্শিদাবাদ, উত্তর চব্বিশ পরগনা, বাঁকুড়া, পূর্ব মেদিনীপুরের বেশ কিছু জায়গায় মানুষকে স্বস্তি দিয়েছে কালবৈশাখী। তবে এর মধ্যেই দুঃসংবাদ। মুর্শিদাবাদের হরিহরপাড়া থানার লালনগরে গাছের ডাল ভেঙে একজনের মৃত্যু হয়েছে। আবহাওয়া দফতর জানিয়েছে, বাতাসে জলীয় বাস্পের পরিমাণ বেড়ে যাওয়ায় বজ্রগর্ভ মেঘ তৈরি হয়েছে। তা থেকেই দক্ষিণ বঙ্গে এই ঝড়বৃষ্টি । বৃষ্টির সম্ভাবনা রয়েছে কলকাতাতেও।

জাল ভোটার ধরে ফেলায় বাম প্রার্থীর এজেন্টের বাড়িতে হামলাজাল ভোটার ধরে ফেলায় বাম প্রার্থীর এজেন্টের বাড়িতে হামলা

জাল ভোটার ধরে ফেলায় বাম প্রার্থীর এজেন্টের বাড়িতে হামলা। এমনই অভিযোগ উঠেছে হুগলির ধনেখালিতে। ধনেখালি বিধানসভা কেন্দ্রের আটত্রিশ নম্বর বুথের এজেন্ট ছিলেন শেখ জসিমুদ্দিন। তাঁর দাবি, গতকাল দুজন জাল ভোটারকে ধরে ফেলেন তিনি। এরপরই তাঁকে হুমকি দেওয়া হয় বলে অভিযোগ। অভিযোগ, আজ সকালে বাজারে গেলে, তাঁর ওপর হামলার চেষ্টা হয়।

অধীর চৌধুরীর দাবি, পরিবর্তন এখন সময়ের অপেক্ষাঅধীর চৌধুরীর দাবি, পরিবর্তন এখন সময়ের অপেক্ষা

জোট ক্ষমতায় এসেই গিয়েছে। এখন শুধু সময়ের অপেক্ষা। কোচবিহারে প্রচারে গিয়ে দাবি করলেন অধীর চৌধুরী। শেষবেলার প্রচারে চড়াসুরে আক্রমণের নিশানা করলেন মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়কে। আর যেন তর সইছে না জোটের অন্যতম কারিগর অধীর চৌধুরীর। কারণ তাঁর দাবি, পরিবর্তন এখন সময়ের অপেক্ষা। প্রায় একমাসের ভোটযুদ্ধ এখন শেষ হওয়ার পথে। টি টোয়েন্টি ম্যাচের আর বাকি মাত্র কয়েক ওভার। পড়ে রয়েছে উত্তরের কোচবিহার আর দক্ষিণের পূর্ব মেদিনীপুর। ফিনিশিং টাচ, তাই নেতাদের বক্তব্যের সুর এখন সপ্তমে।

ভোটে তৃণমূলের হয়ে কাজ করায় বাবা-ছেলেকে বেধড়ক মারভোটে তৃণমূলের হয়ে কাজ করায় বাবা-ছেলেকে বেধড়ক মার

ভোটে তৃণমূলের হয়ে কাজ করায় বাবা-ছেলেকে বেধড়ক মার। অভিযোগ স্থানীয় সিপিএম নেতৃত্বের বিরুদ্ধে। মালদার মানিকচকের ঘটনা। আহত শেখ সইফুদ্দিন ও শেখ মাতুয়ারাকে মানিকচক স্বাস্থ্যকেন্দ্রে ভর্তি করা হয়েছে। তৃণমূলের দাবি, এবারের ভোটে মানিকচকের তৃণমূল প্রার্থী সাবিত্রী মিত্রের হয়ে কাজ করেন সুইফুদ্দিন ও মাতুয়ারা।

সালিশি সভায় মহিলাকে ধাক্কা মারার অভিযোগ, এর পরেই মৃত্যু হয় মহিলার!সালিশি সভায় মহিলাকে ধাক্কা মারার অভিযোগ, এর পরেই মৃত্যু হয় মহিলার!

জমিতে জল দেওয়া নিয়ে বিবাদের জের। সালিশি সভায় মহিলাকে ধাক্কা মারার অভিযোগ। এর পরেই মৃত্যু হয় মহিলার। জলপাইগুড়ির বারোপেটিয়ার ঘটনা। এসবই হয় স্থানীয় এক পঞ্চায়েত সদস্যের সামনে। ঘটনর সূত্রপাত আজ সকালে। জমিতে জল দেওয়া নিয়ে প্রতিবেশী সুরজ ওরাঁওয়ের সঙ্গে ঝামেলা বাধে জানকী রায় নামে ওই মহিলার। এর পরেই রঞ্জিত রায় নামে এক পঞ্চেয়েত সদস্যের উপস্থিতিতে সালিসি বসে। সেখানেই জানকী রায় নামে ওই মহিলাকে ধক্কা মারা হয় বলে দাবি।

ABP Anand reports:


চপারকাণ্ডে  কংগ্রেসকে নিশানা তৃণমূলের, রাজ্যসভা থেকে বের করে দেওয়া হল সুখেন্দুশেখরকে
চপারকাণ্ডে কংগ্রেসকে নিশানা তৃণমূলের, রাজ্যসভা থেকে বের করে দেওয়া হল সুখেন্দুশেখরকে

নয়াদিল্লি: রাজ্য-রাজনীতির উত্তাপের প্রভাব এবার রাজ্যসভাতে। অগুস্তাওয়েস্টল্যান্ড...

হরিদেবপুর: আক্রান্ত শিশুর বাড়িতে গিয়ে ক্ষোভের মুখে, বেরিয়ে অভিযুক্তকে সঙ্গে নিয়ে সভা, বিতর্কে শোভন
হরিদেবপুর: আক্রান্ত শিশুর বাড়িতে গিয়ে ক্ষোভের মুখে, বেরিয়ে অভিযুক্তকে সঙ্গে নিয়ে সভা, বিতর্কে শোভন

দক্ষিণ ২৪ পরগনা: প্রথমে হরিদেবপুরে আক্রান্ত শিশুর বাড়িতে গিয়ে ক্ষোভের মুখে। তারপর...