Sustain Humanity


Sunday, June 19, 2016

प्रोफेसर बीपी गुरू की गिरफ्तारी का विरोध1Professor BP Mahesh Chandra Guru of Mysore University Arrested now.Some days back, Kancha Illiah was threatened by communal goons.

प्रोफेसर बीपी गुरू की गिरफ्तारी का विरोध

Dear friend,There seems to be no end to the repression of writers and intellectuals opposing cultural domination. The arrest of Professor BP Mahesh Chandra Guru of Mysore University yesterday is the latest in the series. Prof Guru has been writing regularly for FORWARD Press.


Some days back, Kancha Illiah was threatened by communal goons. A case was also registered against him for allegedly insulting god. After Vivek Kumar, a Chhattisgarh-based journalist and editor of a fortnightly allegedly insulted Hindu goddess Durga in his Facebook post, anti-social elements forced a bandh in the Manpur town where he lives for several days and indulged in violence. Under the pressure of these elements, Vivek Kumar was arrested under various sections of the IPC. After spending 70 days in jail, he was released on bail only two days back. You are well aware of similar incidents in the past.

We would like to publish  articles on these incidents in FP. If you are interested, please do let us know.

-Pramod Ranjan
janvikalp@gmail.com 


Pramod Ranjan

र्नाटक पुलिस ने मैसूर विश्‍वविद्यालय के पत्रका‍रिता विभाग में प्रोफेसर व फूले-आम्‍बेडकरवादी लेखक बीपी महेश चंद्र गुरू को गिरफ्तार कर लिया है। प्रोफेसर गुरू ने पिछले दिनों अपने विश्‍वविद्यालय में रोहित वेमूला को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मानव संसाधन मंत्री स्‍मृति इरानी पर कठोर टिप्‍पणियां की थी तथा कथित तौर पर भगवान राम का अपमान किया था। (कमेंट में खबर देखें)

प्रोफेसर गुरू फारवर्ड प्रेस के नियमित लेखक रहे हैं तथा पिछले साल उन्‍होंने साथी कन्‍नड लेखकों के साथ मिलकर मैसूर में महिषासुर दिवस का आयोजन किया था, जिसकी व्‍यापक चर्चा कन्‍नड मीडिया में हुई थी। उसी समय से प्रो. गुरू सरकार के निशाने पर थे।

हम सांस्‍कृतिक वर्चस्‍ववाद के खिलाफ विभिन्‍न भाषाओं में रचनारत लेखकों के दमन की निंदा करते हैं तथा लोगों के अपील करते हैं वे अपने लेखकों के पक्ष में खडे हों।



--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!