Sustain Humanity


Wednesday, October 5, 2016

बंग समुदाय अपने अधिकार पाने हुए एक जुट.... चार सूत्रीय मांग को लेकर पिछले 27 दिन क्रमिक हड़ताल वाद गांघी जयंती 2 अक्टूबर को एक महिला सहित 12 प्रतिनिधि बैठे आमरण अनशन में...आज चौथा दिन......... मांग रहे अपना अधिकार

https://www.facebook.com/hiranmaysarkar07/videos/pcb.332037847130876/1112226435480111/?type=3&theater

बंग समुदाय अपने अधिकार पाने हुए एक जुट.... चार सूत्रीय मांग को लेकर पिछले 27 दिन क्रमिक हड़ताल वाद गांघी जयंती 2 अक्टूबर को एक महिला सहित 12 प्रतिनिधि बैठे आमरण अनशन में...आज चौथा दिन......... मांग रहे अपना अधिकार
बंगला देश विभाजन बाद देश के विभिन्न राज्य में पुनर्वास दिया गया
....पर भारत में रहने का पूर्ण अधिकार से बंचित है.....
मातृ भाषा ....भूल गए बच्चे ....भूमि स्वामी का कोई अधिकार नही......जाती का कोई .वर्ग नही
कोई लाभ नही
बंग समुदाय में भी हर वर्ग के लोग है वैष्य शुद्र ब्राह्मण कायस्थ पर इनको जो जाती का दर्जा चाहिए वो नही मिला.......जिसे पाने के लिए राज्य शाशन के मुखिया मुख्य मंत्री के पास गया था उन्होंने 3 माह के भीतर निराकरण कर इ की बात कही......
पर अब 10 माह हो गया किसी प्रकार का निर्णय की शुगबुगाह ट तक नही मिला............लिहाजा ये अब वादा खिलापि को लेकर राज्य सरकार के खिलाफ उतरे सड़क पर........
कालेज स्कुल कर दिया बंध...... गांधी जी के राह पर चले भूख हड़ताल में अब तक कोई शाशन प्रशसन अमला नही लिया सुध.............
जब तक मांग पूरा नहीं होगी चलते रहेंगे आमरण अनशन........समर्थन में कांग्रेस व् जनता कांग्रेस के साथ क्षेत्र के 133 गाओ के आलवा प्रदेश भर के बंग समुदाय का हुजूम बढ़ते जा रहा है